श्री राम के पुत्र लव और यमराज के बीच युद्ध क्यों हुआ था

श्री राम के पुत्र लव और यमराज के बीच युद्ध क्यों हुआ था

दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम श्री राम के पुत्र लव और यमराज के बीच युद्ध क्यों हुआ और इसका क्या कारण था युद्ध करने का । तो आप इस पोस्ट के में इसी के बारे में बात करेंगे तो पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ना –

लव और यमराज बीच युद्ध का कारण है कि श्रीराम के मंत्री सुमन्त स्वर्गवासी हो जाते हैं बाद में पंडितों द्वारा सुमंत्त की कुंडली देखकर पता चलता है कि सुमंत के आयु के नो दिन बाकी थे । और यमदूत ने नो दिन पहले ही श्रीराम के मंत्री सुमंत्त को उठा लिया था।

तब श्रीराम ने यमराज के इस कृत्य को देख कर उसे दंड देने की प्रतिज्ञा ली और गरुड़ पर बैठकर श्रीराम यमलोक की ओर निकले तब रास्ते में उनको दिखाई दिया कि सुमंत की आत्मा को यमलोक ले जा रहे थे उस यमराज को दंड देकर श्रीराम सुमंत को वापस छुड़ा लाए ।

यमदूतो को यह कार्य अनुचित जान पड़ा और वह यमराज को धिक्कारने लगे कि वह अपने अनुचरो की रक्षा नहीं कर पाए । फिर यमराज को भी क्रोध आ गया तब क्रोधित होकर यमराज अपनी सेना लेकर राम के साथ युद्ध करने की मंशा पाले अयोध्या चल पड़े।
लव और यमराज के बीच युद्ध


यमराज के द्वारा अयोध्या को घिरा देखकर श्री राम ने लव को युद्ध करने का आदेश दिया और फिर लव के बाणों से घायल होकर यमराज के करोड़ों यमदूत धराशायी हो गए।
लव और यमराज के बीच युद्ध

अपनी किसी भी युक्ति को चलता ना देखकर यमराज ने लव पर  “यम-दंड “ का प्रहार कर दिया और इसकी काट के रूप में लव को ब्रह्मास्त्र चलाना पड़ा। बस पर फिर क्या था यमराज को भागना पड़ा , किंतु ब्रह्मास्त्र यमराज का पीछा छोड़ने वाला नहीं था। फिर यमराज से सूर्य की शरण में यम चले गए और सूर्यवंश की शपथ लेकर लव को सूर्य देव ने ब्रह्मास्त्र वापस लौटाने को मनाया।

सूर्य ने कहा वत्स लव तुमने ही इस अस्त्र को चलाया है तुम ही इसका निवारण कर सकते हो।  तुम भी हमारे वंश में उत्पन्न हुए हो और यम भी मेरा ही पुत्र हैं तुम अपने पूर्वजों को क्यों मारना चाहते हो यदि एक पुत्र मूर्ख हो जाए तो क्या उसके साथ सभी मूर्ख हो जाए।

संग्राम से पलायन किए हुए शत्रु की वीरगन रक्षा ही करते हैं। इस प्रकार सूर्यदेव ने बहुत प्रार्थना की तब लव ने ब्रह्मास्त्र का संवरण किया। तत्पश्चात यमराज को अपनी गलती का एहसास हुआ। फिर प्रसन्नता पूर्वक वह अपने पिता सूर्यदेव के साथ श्री राम के दर्शन हेतु अयोध्या नगरी पधारे ! यह देखकर देवी देवताओं ने हर्ष से अपने-अपने वाद्य यंत्र बजाए।  लव पर फूलों की वर्षा की।
लव ने जाकर अपने पिता श्री राम जी को सादर प्रणाम किया।
 ( जय श्री राम )

अगर आपको यह जानकारी पसंद आया तो कमेंट में Good या Bed लिखकर जरूर बताएं । क्या हम इसी तरह  आर्टिकल पर पोस्ट हर दिन लाये….?

अपना सिर काट कर देने वाली रानी कौन थी ?

यदि आपके पास hindi में कोई Artical , Inspirational story , Business Idea ,  Education Notes , Helth, Hindi khaniya या Fects जानकारी है तो आप हमारे साथ Share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ ईमेल पर सेंड करे !
हमारी ID हैं – babluregar060@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ PUBLISH करेंगे ।

😍 Thanks 🌹

शिवलिंग पर बनी तीन रेखाओं का क्या मतलब होता हैं हम शिवलिंग की पूजा क्यों करते है

About The Auther –
About the Auther
Hello , Myworldtimes.com  में आपका स्वागत हैं ।
मेरा नाम बबलू रेगर मै राजस्थान , भीलवाड़ा से 50 KM दूर एक छोटे से गांव से हु।
में ब्लॉगिंग करता हूं और  में इंस्टाग्राम पर पोस्ट Create करता हूं
मेरे इंस्टाग्राम peges ये हैं-
1. Alone___writer123
2. B4kstudio
3. Health.com123

Myworldtimes.com वेबसाइट में आप सभी का स्वागत हैं , हम आपके लिए इस वेबसाइट पर हिन्दी मे हेल्थ , टेक्नोलॉजी , रोचक जानकारी और बिजनेस स्किल्स motivational story , Motivational Quotes Phychology Facts , Hindi Stories और आपकी रोजमर्रा की जिंदगी से जुड़ी कई दिलचस्प जानकारी हर रोज आप तक पहुचाते हैं। ध्यान दे हम अपनी तरफ से आपको myworldtimes.com वेबसाइट पर बेस्ट और बिल्कुल सही जानकारी देने की कोशिश करते हैं , लेकिन फिर भी इस वेबसाइट में दी गई जानकारी 100% सही हैं या नही इस बात की कोई गारंटी नही है।

Thanks

Comment

Scroll to Top