माइकल जैक्सन क्यों मौत को चकमा नहीं दे पाए Micheal jackson Biography in hindi.

माइकल जैक्सन क्यों मौत को चकमा नहीं दे पाए Micheal jackson Biography in hindi.

दोस्तों आज ही इस पोस्ट में हम माइकल जैकसन की बायोग्राफी के बारे में बात करेंगे माइकल जैकसन जो की 150 साल जीने की तमन्ना रखने वाले क्यों मौत को चकमा नहीं दे पाए। आइए जानते हैं माइकल जैकसन के बारे में कुछ अनोखे फेक्ट –

माइकल जैक्सन 29 अगस्त 1958 में शिकागो के पास एक टाउन में अपने माता-पिता की सबसे छोटी संतान के रूप में पैदा हुए थे। उनकी मां का नाम कैथरीना था वह भी म्यूजिक की काफी शौकीन थी और अपने बच्चों को अक्सर म्यूजिक सुनाती थी। जबकि उनके पिता जोसेफ जो कि एक क्रेन ऑपरेटर थे , लेकिन वह भी एक लोकल बैंड ” फॉल्कन ” में गिटार बजाते थे।

माइकल जैक्सन 150 साल जीना चाहता था , इसके लिए उन्होंने हर एक इंतजाम किया जिससे की मौत और बीमारी को टाला जा सके। किसी के साथ हाथ मिलाने से पहले दस्ताने पहनता था लोगों के बीच में जाने से पहले मुंह पर मास्क लगाना नहीं भूलता था।

Michael jackson Biography in hindi
Michael Jackson 

माइकल जैक्सन ने अपनी देखरेख करने के लिए उसने अपने घर पर दर्जनों डॉक्टर नियुक्त किया हुआ था। जो उसके शरीर के बाल से लेकर पांव के नाखून तक की जांच प्रतिदिन किया करते थे। उनका खाना हमेशा लेबोरेटरी में चेक होने के बाद उन्हें खिलाया जाता था।

माइकल जैकसन ने स्वयं को यायाम करवाने के लिए उसने 15 लोगों को रखा हुआ था। हमेशा ऑक्सीजन वाले बेड़ पर सोता था। जरूरत पड़ने पर अपने लिए अंगदान करने वाले डोनर भी तैयार कर रखे थे जिन्हें वह खर्ची देता था ताकि समय आने पर किडनी , फेफड़े , आँखे या किसी भी शरीर के अन्य अंगों की जरूरत पड़ने पर वह आकर दे दे ।

उन्हें लगता था कि मैं पैसे और प्रसिद्धि के बदौलत मौत को भी चकमा दे सकता है। लेकिन वह गलत साबित हुआ 25 जून 2009 को उसके दिल की धड़कन रुकने लगी , उनके घर पर डॉक्टरों की मौजूदगी भी हालत को काबू में नहीं कर पाई , सारे शहर के डॉक्टर उनके घर पर जमा हो गए पर अफसोस माइकल जैक्सन को नहीं बचा पाए।

उन्होंने 25 साल तक डॉक्टर के विपरीत कुछ भी नहीं खाया फिर भी अंतिम दिनों में उनकी हालत बहुत खराब हो गई थी। 50 वर्ष में आते आते वे अपने जीवन के पतन के करीब आ गया था और 25 जून 2009 को इस दुनिया को अलविदा कह गया और 150 साल जीने की तमन्ना धरा की धरा रह गई।

जब माइकल जैक्सन की बॉडी का पोस्टमार्टम हुआ तो डॉक्टरों ने बताया कि उसका शरीर हड्डियों का ढांचा बन चुका था। सिर गंजा हो गया था , फ़सलिया और कंधे की हड्डियां टूट चुकी थी , शरीर पर अनगिनत सुई के निशान थे जो प्लास्टिक सर्जरी के कारण होने वाले दर्द से छुटकारा पाने के लिए लेते थे।

माइकल जैक्सन मूल रूप से काला था पर 1987 में प्लास्टिक सर्जरी करवा कर अपनी त्वचा को गोरा बना दिया था। अपने काले मां-बाप और काले दोस्तों को भी छोड़ दिया। गोरा होने के बाद उसने गोरे मां-बाप की किराए पर ले लिया और अपने दोस्तों भी गोरे बनाए शादी भी गोरी औरत के साथ की थी।

माइकल जैक्सन की मृत्यु के दिन Google , Wikipedia , Twitter , Aol’s instant messenger सभी क्रेश हो गए थे। अत्यधिक सर्च होने के कारण गूगल पर सबसे बड़ा ट्रैफिक जाम हुआ था।

आखिर में माइकल जैक्सन की बायोग्राफी कैसी लगी। comment में जरूर बताएगा
अगर आपको यह जानकारी पसंद आया तो कमेंट में Good या Bed लिखकर जरूर बताएं । क्या हम इसी तरह  आर्टिकल पर पोस्ट हर दिन लाये….?

इनको भी पढ़े –

1. पोस्टमार्टम रात को क्यों नही किया जाता हैं?
2. ट्रेन के पीछे एक्स क्यों लिखा होता हैं?
3.आँखे खोलो न माँ एक लड़के की दर्दनाक कहानी
4. सपने में साँप दिखने का क्या मतलब होता हैं?

About The Auther –

About the Auther
Author by – Bablu Regar

Hello , Myworldtimes.com  में आपका स्वागत हैं ।
मेरा नाम बबलू रेगर मै राजस्थान , भीलवाड़ा से 50 KM दूर एक छोटे से गांव से हु।

में ब्लॉगिंग करता हूं और  में इंस्टाग्राम पर पोस्ट Create करता हूं  आप हमें यहा पे फॉलो कर सकते हैं।
मेरे इंस्टाग्राम peges ये हैं-
1. Alone___writer123
2. B4kstudio
3. Health.com123
4. Facts Hindi

Myworldtimes.com वेबसाइट में आप सभी का स्वागत हैं , हम आपके लिए इस वेबसाइट पर हिन्दी मे हेल्थ , टेक्नोलॉजी , रोचक जानकारी और बिजनेस स्किल्स motivational story , Motivational Quotes Phychology Facts , Hindi Stories और आपकी रोजमर्रा की जिंदगी से जुड़ी कई दिलचस्प जानकारी हर रोज आप तक पहुचाते हैं। ध्यान दे हम अपनी तरफ से आपको myworldtimes.com वेबसाइट पर बेस्ट और बिल्कुल सही जानकारी देने की कोशिश करते हैं , लेकिन फिर भी इस वेबसाइट में दी गई जानकारी 100% सही हैं या नही इस बात की कोई गारंटी नही है।

Thanks

 

Comment

Scroll to Top