महाभारत में कृष्ण जी ने बर्बरीक का सर क्यों मांगा था ? जानिए , भगवान खाटूश्यामजी कौंन थे ?

महाभारत में कृष्ण जी ने बर्बरीक का सर क्यों मांगा था ? जानिए , भगवान खाटूश्यामजी कौंन थे ?

दोस्तों आज के पोस्ट में हम महाभारत के उस पार्ट के बारे में बताएंगे जो श्री कृष्ण जी ने बर्बरीक का सर मांगा था । श्री कृष्ण जी बर्बरीक का सर क्यों मांगा था वो इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के बाद समझ आएगा । तो पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ना –
बर्बरीक घटोत्कच का पुत्र था। वो एक वीर , तपस्वी और सिद्धान्त वादी योद्धा था। वो एक से एक अद्भुत शक्तियों का मालिक था। बर्बरीक का यह प्रण था कि वो हमेशा कमजोर लोंगो की मदद करेगा। बर्बरीक भगवान शिव जी और माँ दुर्गा की तपस्या करता था। तपस्या से उसे तीन अभेद्य बाण प्राप्त थे , जिनका निशाना कभी भी खाली नही जाता ,

महाभारत में कृष्ण जी ने बर्बरीक का सर क्यों मांगा

जब श्री कृष्ण जी ने बर्बरीक को पहली बार देखा तो उसे देखकर वो समझ गए थे कि वो युद्ध मे जा रहा है कौरवों का पलड़ा हल्का देखकर अगर बर्बरीक उनकी ओर से युद्ध करेगा तो पांडवो का जीतना कठिन हो जाएगा।
महाभारत में कृष्ण जी ने बर्बरीक का सर क्यों मांगा


इसीलिए श्री कृष्ण जी  ब्राह्मण का वेश धारण करके बर्बरीक के पास गए और बर्बरीक उससे कुछ मांगने वाले को कभी मना नही करता था।
महाभारत में कृष्ण जी ने बर्बरीक का सर क्यों मांगा
तो श्री कृष्ण जी ने बर्बरीक से उसके बाणों का रहस्य पूछा तो उसने सारी बात बतादी उन्हें बाण चलाकर बताये एक पीपल का पेड़ था , जिसका एक पत्ता तोड़ कर श्री कृष्ण जी ने अपने पांव के नीचे रख लिया और बर्बरीक से बाण चलाने को कहा।

बर्बरीक ने बाण चलाया तो पेड़ के हर पत्ते में छेद हो गया और बर्बरीक ने श्री कृष्ण जी से पाँव हटाने के लिए कहा तो उस पत्ते में भी छेद था श्री कृष्ण जी ने सोचा कि बर्बरीक तो एक क्षण में ही युद्ध के परिणाम को बदल देगा तो श्री कृष्ण जी असली रूप में आ गए और बर्बरीक से उसका सर मांग लिया और बर्बरीक ने खुशी खुशी उनकी बात मान ली , लेकिन एक ईच्छा भी जताई।
बर्बरीक ने उनके दिव्य स्वरुप के दर्शन की इच्छा जताई  जो श्री कृष्ण ने पूरी की। उसने सम्पूर्ण युद्ध देखने की इच्छा व्यक्त की।
महाभारत में कृष्ण जी ने बर्बरीक का सर क्यों मंगा
कृष्ण जी ने यह मांग भी स्वीकार कर ली। फाल्गुन शुल्का एकादशी की पूरी रात्रि को बर्बरीक ने भगवान कृष्ण जी का ध्यान किया और द्वादसी को उन्हें अपने शीश का दान कर दिया।

आज हम बर्बरीक को भगवान खाटूश्यामजी के नाम से जानते हैं।
भगवान खाटूश्यामजी

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया तो कमेंट में Good या Bed लिखकर जरूर बताएं । क्या हम इसी तरह  आर्टिकल पर पोस्ट हर दिन लाये….?

इन 13 फेक्ट से पता चलता है कि A नाम वाले लोग कैसे होते हैं – Cleck hare

यदि आपके पास hindi में कोई Artical , Inspirational story , Business Idea ,  Education Notes , Helth, Hindi khaniya या जानकारी है तो आप हमारे साथ Share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ ईमेल पर सेंड करे !
हमारी ID हैं – babluregar060@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ PUBLISH करेंगे ।
😍 Thanks 🌹

हर मजदूरी का हिसाब भगवान रखते हैं Motivational story – Cleck hare

About The Auther –

Hello , Myworldtimes.com  में आपका स्वागत हैं ।
मेरा नाम बबलू रेगर मै राजस्थान , भीलवाड़ा से 50 KM दूर एक छोटे से गांव से हु।
में ब्लॉगिंग करता हूं और  में इंस्टाग्राम पर पोस्ट Create करता हूं
मेरे इंस्टाग्राम peges ये हैं-
1. Alone___writer123
2. B4kstudio
3. Health.com123

Myworldtimes.com आप सभी के मार्गदर्शन के लिये बनाया गया है। यहा जीवन और टेक्नोलॉजी के साथ साथ इस मुश्किल भरी जिंदगी में अपने आप को मोटिवेट कैसे रखें और अपनी नॉलेज को इम्प्रूव करें आगे बढ़ने से जुड़ी वो सभी चीजों पर प्रकाश डालने की कोशिश की जाती है जो जीवन को सरल बनाने में लाभकारी है आपका प्यार ही हमे हर दिन कुछ नई जानकारी प्रकाशित करने की प्रेरणा देता हैं।।

Myworldtimes.com वेबसाइट में हिंदी भाषा का उपयोग किया गया है। यहाँ पर वो लोग भी ब्लॉग पढ़ सकते हैं जिसकी इंग्लिश कमजोर है या फिर जिन्हें इंग्लिश नही आती हो । वैसे मुझे भी इंग्लिश नही आती है इसलिए में सभी आर्टिकल हिंदी में लिखता हूँ ।
आँखे खोलो ना माँ एक लड़के की दर्दनाक कहानी – Cleck hare

Myworldtimes.com वेबसाइट पर आपको मोटिवेशनल कोट्स , मोटिवेशनल स्टोरी , बिजनेस आईडिया , साइकोलॉजी फेक्ट , महान लोगो की बाते , कम्प्यूटर ज्ञान , एजुकेशन नॉलेज , साइंस नॉलेज , टेक्नोलॉजी ज्ञान , हेल्थ, डेली न्यूज ,हिंदी कहानियां  इन सभी विषयों पर आर्टिकल लिखा जाता है ।

Thanks

Comment

Scroll to Top