जानिए , परशुराम ने कर्ण को श्राप क्यों दिया था? कर्ण की मृत्यु कैसे हुई

 जानिए , परशुराम ने कर्ण को श्राप क्यों दिया था? कर्ण की मृत्यु कैसे हुई

दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे कि परशुराम ने कर्ण को श्राप क्यों दिया था। तथा कर्ण को किस किसने श्राप दिया था और कर्ण की मृत्यु कैसे हुई थी? आइये जानते हैं इस आर्टिकल के माध्यम से-

कर्ण द्वापर युग के महान योद्धा में से एक थे। लेकिन उनको मिला श्राप उनकी मौत का कारण बन गया। कर्ण को उनके जीवनकाल में दो श्राप मिले थे।

उन्हें पहला श्राप उनके गुरु भगवान परशुराम ने दिया था। जबकि दूसरा श्राप एक ब्राह्मण ने दिया था।

कर्ण को बचपन से ही धनुर्धर बनने की चाहत थी , लेकिन सूत पुत्र होने के कारण कोई उन्हें शिक्षा नहीं देता था। जब वह धनुर्विद्या सीखने के लिए गुरु द्रोणाचार्य के पास जाते हैं , तो वह भी कर्ण के सूत पुत्र होने के कारण उसे धनुर्विद्या देने से मना कर देते हैं। इससे कर्ण निराश होकर भगवान परशुराम के पास पहुंच जाते हैं , लेकिन भगवान परशुराम भी सिर्फ ब्राह्मणों को ही शिक्षा देते थे।

अब कर्ण किसी भी तरह से धनुर विद्या सीखना चाहता था , तो वह भगवान परशुराम से झूठ बोलता है कि वह ब्राह्मण है। भगवान परशुराम भी कर्ण को ब्राह्मण समझ कर उसे शिक्षा देने लगते हैं।

परशुराम ने कर्ण को श्राप क्यों दिया था
परशुराम ने कर्ण को श्राप क्यों दिया

जब कर्ण की शिक्षा खत्म होने वाली होती है , तब एक दिन उनके गुरु भगवान परशुराम दोपहर के समय कर्ण की जंघा पर सिर रखकर आराम कर रहे होते हैं।

थोड़े समय बाद वहां एक बिच्छू आता है जो कर्ण के जंघा पर काट लेता है। अब कर्ण सोचता है कि अगर वह हिला या बिच्छू को हटाने की कोशिश की तो गुरु परशुराम की नींद टूट जाएगी। इसलिए वह बिच्छू को हटाने के बजाय उसे डंक मारने देता है। कर्ण काफी समय तक बिच्छू के डंक से होने वाले दर्द को सहता रहता है।

फिर जब कुछ समय बाद गुरु परशुराम नींद से उठते हैं तो वह देखते हैं कि करण की जांघ से खून बह रहा है। यह देखकर भगवान परशुराम गुस्से में कहते हैं ” इतनी सहनशीलता सिर्फ किसी क्षत्रिय में ही हो सकती है। “ तुमने मुझसे झूठ बोलकर ज्ञान हासिल किया है इसलिए मैं तुम्हें श्राप देता हूं कि जब भी तुम्हें मेरी दी हुई विद्या की सबसे ज्यादा जरूरत होगी , उस समय वह काम नहीं आएगी।

इससे निराश होकर कर्ण अपने गुरु से कहता है कि वह स्वयं नहीं जानता कि वह किस वंश और कुल का है। ऐसे में वह सारी बातें अपने गुरु परशुराम को बताते हैं।

यह जानने के बाद भगवान परशुराम को श्राप देने पर पछतावा होता है। लेकिन दिया हुआ श्राप वापस नहीं लिया जा सकता है इसलिए , वह अपना विजय धनुष कर्ण को वरदान के रूप में देते हैं। इसके बाद कर्ण भगवान परशुराम के आश्रम से विदा लेते हैं।

इस घटना के कुछ वर्षों बाद एक दिन कर्ण जंगल में किसी राक्षस का पीछा कर रहे होते हैं। वह राक्षस को निशाना बनाते हुए उसे मारने के लिए बाण चलाते हैं लेकिन राक्षस अचानक गायब हो जाता है और बाण दलदल में फंसी एक गाय को लग जाती है। बाण लगने से गाय की वही पर मौत हो जाती है।

उस गाय का स्वामी एक ब्राह्मण होता है जो गाय की दुर्दशा देखकर कर्ण को वहीं पर श्राप दे देता है। श्राप में ब्राह्मण कहता है कि जिस तरह तुमने एक असहाय गाय को मारा है , ठीक उसी तरह ही एक दिन तुम्हारी भी मृत्यु होगी।

आगे चलकर इन दोनों श्राप का प्रभाव महाभारत के युद्ध में नजर आया। युद्ध के दौरान कर्ण के रथ का पहिया दलदल में फंस जाता है जब कर्ण उसे निकालने के लिए रथ से उतरता है तभी अर्जुन बाण चला देता है। जिसे कर्ण की मृत्यु हो जाती है।

तो दोस्तों अब आपको समझ में आ गया होगा कि परशुराम ने कर्ण को श्राप क्यों दिया था और कर्ण की मृत्यु कैसे हुई थी।

अगर आपको यह जानकारी पसंद आया तो कमेंट में Good या Bed लिखकर जरूर बताएं । क्या हम इसी तरह  आर्टिकल पर पोस्ट हर दिन लाये?

इनको भी पढ़े –

  1. जानिए , कर्ण का कवच और कुण्डल कहा पर दफन हैं?
  2. जानिए , हिन्दू धर्म मे death body को जलाया क्यों जाता हैं?
  3. रेल की पटरी पर जंग क्यों नही लगता हैं?

About The Auther –

About the Auther
Author by – Bablu Regar

Hello Friends  , Myworldtimes.com  में आपका स्वागत हैं। में ब्लॉगिंग करता हूं और  में इंस्टाग्राम पर पोस्ट Create करता हूं। आप हमें यहा पे फॉलो कर सकते हैं।

मेरे इंस्टाग्राम peges ये हैं- 

1. Alone___writer123
2. B4kstudio
3. Health.com123
4. Facts Hindi

Myworldtimes.com वेबसाइट में आप सभी का स्वागत हैं। हम आपके लिए इस वेबसाइट पर हिन्दी मे हेल्थ , टेक्नोलॉजी , रोचक जानकारी और बिजनेस स्किल्स motivational story , Motivational Quotes Phychology Facts , Hindi Stories और आपकी रोजमर्रा की जिंदगी से जुड़ी कई दिलचस्प जानकारी हर रोज आप तक पहुचाते हैं। ध्यान दे हम अपनी तरफ से आपको myworldtimes.com वेबसाइट पर बेस्ट और बिल्कुल सही जानकारी देने की कोशिश करते हैं , लेकिन फिर भी इस वेबसाइट में दी गई जानकारी 100% सही हैं या नही इस बात की कोई गारंटी नही है।

Comment

Scroll to Top